72 दिनों तक खाया इंसानो का मांस, कुछ ऐसी है जिंदगी जीने की लड़ाई की कहानी

Rajasthan Khabre | Updated : Friday, 13 Oct 2017 08:54:53
 eaten human meat for 72 days, INT andes flight accident in 1972

ऑफबीट डेस्क। दुनिया में कई अजीब-गरीब घटनाएं ऐसी होती हैं जिनके बारे में सुनकर यकीन नहीं होता कि ऐसा भी कुछ हो सकता है। लेकिन जब इस घटनाओं के सबूत आपके सामने आते हैं तो ये वाकई रोंगटे खड़े कर देने वाला पल होता है। आज हम आपको एक ऐसी ही घटना के बारे में बताने जा रहें है, जिसमें बचें लोगों ने शायद मौंत से भी बदतर कुछ देखा।

13 अक्टूबर 1972 उरुग्वे के ओल्ड क्रिश्चियन क्लब की रग्बी टीम चिली के सैंटियागो में मैच खेलने जा रही थी। जिसमें 45 लोग सवार थे, लेकिन इसी दौरान मौसम खराब होने की वजह से प्लेन चिली की बॉर्डर से करीब 14 किमी दूर अर्जेटीना के मेंदोजा प्रोविंस में क्रैश हो गया जिसमें से 12 ने तुरंत दम तोड़ दिया था और बाकी इसके बाद 17 लोगो ने बाद में दम तोड़ दिया था। लेकिन इस हादसे में जो जिंदा बचे उन्होने मौंत से भी बुरा देखा जो शायद इतना बुरा था कि उसके बारे में सोचने पर भी इंसान सिहर उठे।

प्लेन में बचे लोगो ने बताया कि दुर्घटना के बाद उन्होने खाने की चीजों को थोड़े-थोड़े हिस्सों में बांट लिया, जिससे उनका खाना ज्यादा दिनों तक चल सके और तब तक उनके लिए कोई मदद आ जाए। वहीं पानी के लिए उन्होने प्लेन में से एक मेटल का हिस्सा लिया जिससे पानी को जल्दी गर्म किया जा सके। 

लेकिन वास्तविक परिस्थियां उनके सामने उस समय आई जब उनके पास खाना खत्म हो गया लेकिन मदद नहीं आई। जिसके बाद उन्होने जीने के लिए कुछ ऐसा करना पड़ा जो शायद ही कोई इंसान सोच सके। तब इन लोगों को अपने साथियों के शवों के टुकड़े करके खाना पड़ा।


हादसे में जिंदा बचे एक व्यक्ति ने अपने इंटरव्यू में कहा कि उसे उस समय जिंदा रहने के लिए अपने दोस्त का मांस खाना पड़ा। माइनस 30 डिग्री तापमान और हादसे के 60 दिन निकल जाने के बाद बचे लोगो ने जीने की उम्मीद खो दी। लेकिन जिंदा बचे लोगो में से दो खिलाड़ियों नैन्डो पैरेडो और रॉबटरे केनेसा मदद के लिए ट्रैकिंग कर आबादी क्षेत्र तक पहुंचने की ठानी। 

इसके बाद दोनो खिलाड़ियो ने शारीरिक कमजोर होने के बाद भी तमाम मुश्किलों का सामना करते हुए एंडीज पर्वत को पार कर चिली के आबादी वाले क्षेत्र तक पहुंच गए। और यहां पहुंच उन्होने अपने साथियों की लोकेशन बताई जिसके बाद हादसे में बचे लोगो को रेस्क्यू किया गया।


 

 

Copyright @ 2017 Rajasthankhabre, Jaipur. All Right Reserved.