जानिए, भगवान श्री कृष्ण सिर पर क्यों धारण कर मोर मुकुट

Rajasthan Khabre | Updated : Monday, 24 Dec 2018 11:36:15 AM
Why is Lord Krishna wearing a peacock crown on his head

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

डेस्क। हिंदू धर्म में भगवान विष्णु का दर्जा बहुत ऊँचा होता है क्युकी पुराणों में त्रिमूर्ति विष्णु को विश्व का पालनहार कहा गया है। भगवान विष्णु का निवास क्षीर सागर है। उनका शयन शेषनाग के ऊपर है। ये बात तो आप सभी जानते है की जब भी धरती पर पाप और अत्याचार बढ़ा तब भगवान श्री विष्णु ने अवतरित होकर पापियों का संहार किया। भगवान श्री विष्णु अब तक 9 अवतार ले चुके हैं और पौराणिक शास्त्रों के अनुसार श्री हरी का दसवां अवतार कलियुग के अंत में होगा और ये अवतार कल्की अवतार कहलाएगा। लेकिन आज हम आपको बताने जा रहे है की भगवान श्री कृष्ण अपने सिर पर मोर मुकुट क्यों पहनते है तो आइए जानते है...


ये बात तो आप सभी जानते है की भगवान ​श्रीकृष्ण बचपन से काफी नटखट रहे है। उन्होंने बाल रूप में भी कई लीलाएं दिखाई हैं और जैसे-जैसे बड़े हुए कई लीलाएं अपने भक्तों को दिखाई हैं। श्रीकृष्ण को बांसुरी और मक्खन बहुत पसंद थी। लेकिन भगवान श्रीकृष्ण को बांसुरी और मक्खन के​ अलावा एक चीज और सबसे पसंद थी। जो उनके रूप को और सुंदर और मनमोहक बनाती थी। जी, हां ये कुछ और नहीं बल्कि मोरपंख है।

श्रीकृष्ण को मोरपंख भी बहुत पसंद है। श्रीकृष्ण अपने सिर पर मोर पंख धारण करते है। इसलिए उन्हें मोर मुकुट बंशी वाला भी कहा जाता है। श्रीकृष्ण के सिर पर मोरपंख अपनी छठा बिखेरते हुए नजर आता है। श्रीकृष्ण के सिर पर मोरपंख रखने के बारें में कुछ ज्योतिषशास्त्रीयों ने बताया है कि कृष्ण की कुण्डली में मौजूद दोष मानते हैं। कुण्डली में मौजूद दोष के अशुभ प्रभावों को दूर करने के लिए कृष्ण हमेशा मोर पंख को अपने सिर पर रखते थे। इसलिए वह सदैव मोर पंख मुकुट में सजाए रखते थे।

 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

 
 
Latest News

Copyright @ 2017 Rajasthankhabre, Jaipur. All Right Reserved.