महत्मा गांधी की मौत का सच! 55 करोड़ रुपये के कारण की गई थी हत्या

Rajasthan Khabre | Updated : Wednesday, 09 Oct 2019 03:16:02 PM
Mahatma Gandhi's assassination for 55 crore rupees

महात्मा गाँधी की नाथूराम गोडसे ने गोली मार कर हत्या की थी और उनकी हत्या 30 जनवरी 1948 को हुई थी। देश ने एक ऐसे शख्स को खो दिया था जिन्हे राष्ट्रपति का दर्जा मिला हुआ था। 

महात्मा गांधी की हत्या में आठ लोगों को आरोपी बनाया गया। लेकिन इनमे से 5 लोगों को सजा मिली और 3 लोगों को छोड़ दिया गया। सबसे मुख्य आरोपी नाथूराम गोडसे और नारायण आप्टे को फांसी की सजा दी गई वहीं विष्णु करकरे, गोपाल गोडसे और मदनलाल को आजीवन कारावास दिया गया।

गोडसे ने एक बारी में कबूल कर लिया था उन्होंने खुद गांधी को मारा है और उन्हें फांसी के फंदे पर झूलने का भी जरा भी दुःख नहीं था।

लेकिन सबसे अहम बात है कि गांधी जी को गोली क्यों मारी गई थी? दरअसल पाकिस्तान को गांधी 55 करोड़ रुपये देने के लिए अड़े हुए थे लेकिन कांग्रेस नहीं चाहती थी कि ऐसा कुछ हो। तब गांधी भूख हड़ताल में बैठ गए जिस से कांग्रेस को झुकना पड़ा। 

इस फंड के जारी करने से गोडसे को बहुत ठेस पहुंचा। इसके बाद उन्होंने गांधी जी को जान से मारने की योजना बनाई। 30 जनवरी की शाम उसने महात्मा गांधी की हत्या कर दी।

loading...

 
loading...
 
Latest News


Copyright @ 2017 Rajasthankhabre, Jaipur. All Right Reserved.