अयोध्या मामले में सुनवाई टालने की मांग को लेकर मोदी ने सिब्बल पर निशाना साधा

Rajasthan Khabre | Updated : Thursday, 07 Dec 2017 09:35:44 AM
Modi targets Sibal over demand for hearing in Ayodhya case

डेस्क। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद तक राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद मामले की सुनवाई टालने की मांग करने के लिए बुधवार को वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं वकील कपिल सिब्बल पर निशाना साधा और पूछा कि क्या इस तरह के मुद्दे को राजनीतिक लाभ-हानि के लिए अनिर्णित रखा जाना चाहिए।

मोदी ने इस बात पर आश्चर्य जताया कि विवाद में पक्षकार सुन्नी वक्फ बोर्ड जब अयोध्या मामले का समाधान चाहता है तो कांग्रेस क्यों बाधा पैदा करना चाह रही है। मोदी ने कहा कि वह सुन्नी वक्फ बोर्ड को बधाई देते हैं कि उसने कहा कि अदालत में सिब्बल का तर्क गलत था और वह मुद्दे का त्वरित समाधान चाहता है।

गुजरात में चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने उत्तर प्रदेश विधानसभा में संभावित नुकसान का खतरा मोल लेते हुए उच्चतम न्यायालय में तीन तलाक का विरोध करने का फैसला किया था। उन्होंने साथ ही देश में एक साथ लोकसभा एवं विधानसभा चुनाव कराने की भी मांग की। प्रधानमंत्री ने कहा कि कल सिब्बल ने मुस्लिम समुदाय के मुद्दे की वकालत की। उन्हें ऐसा करने का हक है और हमें इससे कोई दिक्कत नहीं है।

आप बाबरी मस्जिद को बचाने के लिए सभी तथ्यों एवं कानूनों का हवाला देते हुए अपनी दलील पेश कर सकते हैं। उन्होंने अहमदाबाद जिले में यहां एक चुनाव रैली में कहा कि लेकिन आप यह नहीं कहें कि मामले में 2019 के चुनाव तक सुनवाई नहीं होनी चाहिए। आप चुनाव के नाम पर राम मंदिर (मुद्दा) की सुनवाई रोकना चाहते हैं।

मोदी ने कहा कि वह अब समझते हैं कि कांग्रेस ने क्यों कई मुद्दों को उलझाए रखा। उन्होंने इसे लेकर विस्तार में कुछ नहीं कहा लेकिन इसके पीछे राजनीतिक लाभ हासिल करने को कारण बताया। उन्होंने कांग्रेस से पूछा, क्या वक्फ बोर्ड चुनाव लड़ता है क्या चुनाव के लिए सुनवाई टालने के विचार वक्फ बोर्ड के हैं देश में कांग्रेस पार्टी चुनाव लड़ रही है। आप चुनाव में राजनीतिक लाभ-हानि के लिए मामले को उलझाए रखना चाहते है।

 
 
Latest News

Copyright @ 2017 Rajasthankhabre, Jaipur. All Right Reserved.