इनमें से एक होगा राजस्थान विधानसभा में प्रतिपक्ष का नेता, अरुण जेटली बनाएंगे आम सहमति 

Rajasthan Khabre | Updated : Saturday, 12 Jan 2019 10:50:21 AM
One of them will be Leader of Opposition in Rajasthan Assembly

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

जयपुर। राजस्थान में 15वीं विधानसभा का पहला सत्र 15 जनवरी से शुरू होने वाला है, लेकिन अभी तक भारतीय जनता पार्टी ने प्रतिपक्ष के नेता का चयन नहीं किया है।


राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाने के बाद नेता प्रतिपक्ष बनने के लिए कई उम्मीदवार सामने आ रहे हैं। इस पद के लिए जो नाम प्रमुखता से सामने आ रहे हैं उनमें पूर्व मंत्री गुलाब चंद कटारिया, राजेन्द्र राठौड़, कैलाश मेघवाल और वासुदेव देवनानी हैं। 

जहां तक संभावना जताई जा रही है इस पद के लिए इन चारों में से ही किसी एक को नेता प्रतिपक्ष का नेता बनाया जाएगा। राजस्थान विधानसभा का सत्र 15 जनवरी से शुरू होगा। इसे देखते हुए रविवार को भाजपा विधायक दल की बैठक बुलाई गई है। इस बैठक में नेता प्रतिपक्ष के नाम की घोषणा हो सकती है। इसके लिए इसमें केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली आम सहमति बनाएंगे। 

इस कारण दावेदार माने जा रहे हैं ये उम्मीदवार:

गुलाब चन्द कटारिया: गुलाब चन्द कटारिया भारतीय जनता पार्टी के अनुभवी नेताओं में शामिल हैं। 2008 में जब बीजेपी विपक्ष में बैठी थी उस समय वह प्रतिपक्ष के नेता रह चुके हैं।

कैलाश मेघवाल: कैलाश मेघवाल वसुंधरा राजे सरकार में विधानसभा अध्यक्ष रह चुके हैं। लोकसभा चुनावा में दलित वोटों पर सेंध मारने के लिए उन्हें यह जिम्मेदारी मिल सकती है।

राजेन्द्र राठौड: राजेन्द्र राठौड़ वसुंधरा राजे सरकार में चिकित्सा मंत्री रह चुके हैं। प्रदेश की राजनीति में सक्रियता व तेजतर्रार तेवर के कारण वे नेता प्रतिपक्ष की दौड़ में प्रमुख दावेदार बने हुए हैं।

वासुदेव देवनानी: पिछली भाजपा सरकार में वासुदेव देवनानी शिक्षा मंत्री रह चुके हैं। इस पद के लिए उनकी दोवदारी भी कम नहीं है। 
 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

 
 
Latest News

Copyright @ 2017 Rajasthankhabre, Jaipur. All Right Reserved.