Entertainment News: साउथ एक्ट्रेस अमला पौल को मंदिर में नहीं मिली एंट्री !

 | 
ss

आपको बता दें कि साउथ के कई मंदिरों में ऐसे नियम है जिसकी वजह से कई बार विवाद खड़ा हो जाता है हाल ही में एक ताजा मामला केरल के एर्नाकुलम के थिरुवैरनिकुलम हिंदू मंदिर का सामने आया हैं। जहां पर साउथ की फेमस एक्ट्रेस अमला पॉल महादेव के दर्शन करने के लिए पहुंची थी लेकिन उस मंदिर में एक्ट्रेस को अंदर जाने की अनुमति नहीं दी गई। आपको बता दें कि मंदिर प्रशासन ने एक्ट्रेस को मंदिर में अंदर जाने की अनुमति नहीं दी। जिसके बाद यह मामला और ज्यादा गरम हो गया एक्ट्रेस अमाला ने इसे बहुत ही निराशाजनक बताया और इसके साथ ही उन्होंने विजिटर रजिस्टर में अपने साथ घटित हुई इस घटना का भी जिक्र किया है।

s

आपको बता दें कि यह पूरा मामला सोमवार का है जब साउथ एक्ट्रेस अमला पौल शिव मंदिर में दर्शन करने के लिए गई थी। लेकिन उस मंदिर में एक्ट्रेस को अंदर जाने की अनुमति नहीं दी गई और मंदिर के प्रशासन की ओर से कहा गया कि बहुत दूर से बाहर जाकर दर्शन कर ले। आपको बता दें कि मंदिर प्रशासन ने एक्ट्रेस को हिंदू मान्यताओं का हवाला देते हुए कहा कि सिर्फ हिंदू लोग ही इस मंदिर में प्रवेश कर सकते हैं इसके बाद एक्ट्रेस अमाला ने मंदिर के सामने खड़े होकर सड़क से ही दर्शन किए और वापस लौट गई लेकिन इसके बाद एक्ट्रेस ने मंदिर के विजिटर रजिस्टर में अपनी भावनाओं को जाहिर किया और लिखा कि उन्होंने देवी के दर्शन नहीं किए लेकिन उन्हें ऐसा लग रहा है कि वह दर्शन कर चुकी है।


* साल 2023 में भी हो रहा है धार्मिक भेदभाव :

जब मंदिर प्रशासन से एक्ट्रेस अमाला पॉल वाले मामले में बातचीत की गई तो Thiruvairanikulam महादेव मंदिर ट्रस्ट से जुड़े लोगों ने बताया कि उन्होंने तो सिर्फ मंदिर के नियमों का पालन किया है ऐसा नहीं है कि दूसरे धर्म से जुड़े हिंदू अनुयायी मंदिर में नहीं आ रहे हैं लेकिन जब कोई सेलिब्रिटी आता है तो विवाद हो ही जाता है।

s
* मंदिर में अमाला पॉल को नहीं मिली एंट्री :

साउथ एक्ट्रेस अमाला पॉल ने लिखा है कि यह दुखी करने वाला और बहुत ही निराशाजनक है कि 2023 में भी लोगों के साथ धार्मिक भेदभाव हो रहा है। मैं देवी मां के पास से दर्शन नहीं कर सकी। लेकिन मुझे दूर से ही उनके दर्शन करने का एहसास हुआ और मुझे उम्मीद है कि जल्दी ही इस धार्मिक भेदभाव को दूर किया जाएगा और वह समय आएगा जब हम सभी के साथ इंसानों की तरह बर्ताव किया जाएगा ना कि धर्म के आधार पर।