Chanakya niti: व्यापार में तरक्की पाने के लिए अपनाएँ आचार्य चाणक्य की ये नीति

 | 
n

आचार्य चाणक्य ने नीति शास्त्र का ग्रंथ लिखा था। इस ग्रंथ के अंदर सैकड़ों सालों पहले बिजनेस करने के संबंध में विस्तार से बताया हुआ है कि बिजनेस कैसे करना चाहिए और बिजनेस को बढ़ाने के लिए क्या तरीके अपनाने चाहिए। तो ऐसे में आज की हमारी इस पोस्ट के माध्यम से हम आचार्य चाणक्य की वह महत्वपूर्ण बातें आपको बताएंगे जो कि आपके बिजनेस को और ज्यादा सफल करने में सहयोग कर सकेगी। तो आज  ऐसी महत्वपूर्ण बातें हम बताने जा रहे हैं जोकि चाणक्य नीति से उठाई गई है। अगर इनको आप फॉक्स करते हैं तो बिजनेस के मामले में आप काफी कारगर साबित हो सकते हैं।

नफा नुकसान का आंकलन करें
आचार्य चाणक्य कहते हैं कि हम जो भी बिजनेस या काम शुरू करते हैं तो सबसे पहले हमें यह पता लगाना चाहिए कि इस बिजनेस में सही जगह क्या है और हमारे प्रतिद्वंदी कौन-कौन हैं। मार्केट को अच्छी तरह से समझाना जरूरी है वही बिजनेस को करने से पहले पूरा प्लान तैयार करना जरूरी होता है। आपके विजन क्लियर होने चाहिए और फायदे व नुकसान का आंकलन बारीकी से एडवांस में कर लेना चाहिए। 

a

नकारात्मक लोगों से हमेशा दूरी बनाए रखें
जब भी कोई व्यक्ति कोई काम शुरू करता है तो ना चाहते हुए भी मनोबल को डाउन करने के लिए लोग उसी तरह से हमारे पास आ जाते हैं जिस तरह से फसल में खरपतवार। ऐसे लोग हमारे सपनों को धूमिल करते हैं और हमारे अंदर नकारात्मकता के भाव पैदा कर देते हैं। अगर आपने खुद से यह सवाल कर लिया है कि हमें यह बिजनेस करना है और पूरा उसका प्लान बना रखा है तो ऐसे नकारात्मक लोगों की बातों पर बिल्कुल भी ध्यान ना दें। 

दूसरों को भनक ना लगने दें
कई बार लोग बिजनेस शुरू करने से पहले डिंडोरा इतना ज्यादा पीट देते हैं कि जिस क्षेत्र में वह अपना बिजनेस करना चाहते हैं उस क्षेत्र में दूसरे लोग उससे पहले ही उतर आते हैं। ऐसे में अगर आप कोई नया बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो इसकी भनक पहले किसी को भी ना लगने दें। 

y

काम को अधर में ना छोड़े
अगर आपने कोई बिजनेस शुरू कर ही दिया है तो उसको पूरी लगन एवं शिद्दत से करें। दूसरों की बातों से प्रभावित होकर उस काम को अधर में ना छोड़े। हमेशा याद रखें कि पौधे को बड़ा होने में वक्त लगता है, उसी प्रकार बिजनेस को भी थोड़ा वक्त लगता ही है। इसलिए धैर्य रखना जरूरी है। आप सिर्फ अपनी मेहनत और लगन से काम को करते रहें।