chanakya niti: आचार्य चाणक्य के अनुसार पत्नी को भी नहीं बतानी चाहिए ये तीन बातें

 | 
v

वैसे तो पत्नी को अर्धांगिनी कहा जाता है और पति और पत्नी का रिश्ता बेहद नजदीकी रिश्ता होता है। दोनों एक दूसरे के सबसे ज्यादा सुख दुख के साथी होते हैं। फिर भी कुछ ऐसी बातें होती है जिन्हें कभी भी व्यक्ति को अपनी पत्नी से भी सांझी नहीं करना चाहिए। अगर कोई ऐसा करता है तो उसको भविष्य में भारी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

ऐसा हम नहीं कह रहे बल्कि आचार्य चाणक्य ने अपने ग्रंथ चाणक्य नीति में कहा है। आचार्य चाणक्य ने तीन ऐसी बातों का जिक्र किया है जिसे इंसान को किसी को भी शेयर नहीं करना चाहिए। अगर आप ऐसा कर देते हैं तो आपको सिवाय पछताने के कुछ नहीं मिलेगा। तो चलिए आज हम आपको बताते हैं कि ऐसी कौन सी तीन बातें हैं जो इंसान को अपनी पत्नी को भी नहीं बतानी चाहिए।

a

अपनी कमजोरी किसी को ना बताएं
आचार्य चाणक्य कहते हैं कि यदि आपके अंदर कोई कमजोरी है तो उसको खुद तक ही सीमित रखें। अगर आपने उस कमजोरी के बारे में पत्नी को बता दिया तो वह अपनी बातें मनवाने के लिए भविष्य में आपकी उस कमजोरी का नाजायज फायदा उठा सकती है। अगर आप उसकी बातों के हिसाब से सहमत नहीं हुए तो वह आपकी कमजोरी पर प्रहार करने में देरी नहीं करेगी।

कमाई के बारे में ना बताएं
आचार्य चाणक्य ने कहा है कि अपनी कमाई के विषय में किसी को भी सच नहीं बताना चाहिए, चाहे पूछने वाली आपकी पत्नी भी क्यों न हो। यदि आपने अपनी पत्नी को अपनी कमाई के बारे में बता दिया तो वह उस कमाई पर अधिकार जताते हुए आप के तमाम खर्चों को सीमित करने का प्रयास करेगी। वहीं इस कारण से आपका जरूरी कामकाज भी प्रभावित हो सकता है।

b

दान के बारे में ना बताएं
शास्त्रों में लिखा है कि दान का महत्व तभी तक है जब उसको गुप्त रखा जाए। यदि हमने दान के संबंध में किसी को भी बता दिया तो उसका महत्व खत्म हो जाता है। ऐसे में चाणक्य कहते हैं कि अगर आप कहीं पर भी किसी तरह का कोई दान करते हैं तो उसके संबंध में अपनी पत्नी को भी ना बताएं। क्योंकि इससे एक तो दान का महत्व कम हो जाएगा वहीं दूसरा पत्नी दान पर किए गए खर्च की दुहाई देकर आपको भला बुरा भी कह सकती है।