आखिर पांच पतियों के साथ कैसे थे द्रौपदी के संबंध; समय बिताने के लिए क्या था नियम?

Rajasthan Khabre | Updated : Thursday, 21 May 2020 09:52:43 AM
how was Draupadi's relationship with the five husbands; What was the rule for spending time

द्रौपदी इतिहास की एक ऐसी महिला थी जो पांच पांडवों की पत्नी थी। द्रौपदी का विवाह अर्जुन से हुआ लेकिन उसे पाँचों पांडवों की पत्नी बनकर रहना पड़ा और अपना पत्नी धर्म भी निभाना पड़ा। 

 

लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह कि द्रौपदी के अर्जुन के अलावा अन्य पांडवों के साथ कैसे संबंध थे? क्या वह अन्य पांडवों से प्रेम नहीं करती थी? इसी बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं। 

पांडव इस बात को लेकर असमंजस में थे कि द्रौपदी के साथ कैसे समय बिताएं। इसका समाधान उन्हें श्री कृष्ण ने दिया और कहा कि  हर साल वह पांडवों में से किसी एक के साथ ही समय व्यतीत करे। जब वह किसी एक पांडव के साथ होगी तो वहां कोई दूसरा पांडव नहीं आएगा। यदि कोई पांडव ऐसा गकरता है तो उसे एक वर्ष का देश निकाला भुगतना होगा।

इस तरह द्रौपदी एक एक पांडव के साथ 1-1 साल का समय बिताती थी। उस समय किसी दूसरे पांडव को वहां जाने का अधिकार नहीं था। 

इस तरह अर्जुन और द्रौपदी की 1 साल समाप्त हुआ तो उसने युधिष्ठिर के साथ समय बिताना शुरू किया। लेकिन अर्जुन द्रौपदी के आवास पर ही अपना तीर-धनुष भूल आए। तभी उनके पास एक ब्राह्मण अपनी गायों की रक्षा के लिए आया। अर्जुन ने ब्राह्मण की रक्षा करना अपना धर्म समझा और द्रौपदी के कक्ष में चला गया। उस दौरान द्रौपदी-युधिष्ठिर साथ में थे। इसलिए अर्जुन को 1 साल के लिए राज्य निकाला दिया गया।

द्रौपदी के पांच पुत्र थे।उसने पाँचों पांडवों के पांच पुत्रों को जन्म दिया था लेकिन दुर्भाग्य की इन पाचों पुत्रों को अश्‍वत्थामा ने मार दिया था।

वन में अर्जुन की मुलाकात उलूपी से हुई और वह उन पर मोहित हो गईं। अर्जुन को नागलोक ले जाकर उसने अर्जुन से विवाह करने की इच्छा जताई। इस तरह अर्जुन का विवाह उलूपी से हुआ।


 
loading...

 
Latest News


Copyright @ 2017 Rajasthankhabre, Jaipur. All Right Reserved.