Chanakya Niti :  दुश्मन पर जीत हासिल करने के लिए आचार्य चाणक्य के इस श्लोक को रखें हमेशा याद, जानें...

Rajasthan Khabre | Updated : Wednesday, 05 May 2021 09:22:38 AM
Always remember this verse of Acharya Chanakya to win over the enemy

न्यूज डेस्क। आचार्य चाणक्य को तो आज के समय पर सभी जानते हैं उन्होंने नंदवंश का नाश करके एक सामान्य व्यक्ती चन्द्रगुप्त मौर्य को भारत का राजा बनाया था उन्होंने अपने जीवन में कई महान ग्रंथ लिखे जैसे अर्थशास्त्र, राजनीति, अर्थनीति, कृषि, समाजनीति आदि आचार्य चाणक्य के यह सभी ग्रंथ और नीतियां आज के समय में भी बहुत उपयोगी साबित होती हैं।

 

इसलिए आज हम आपको बताने जा रहे है की आचार्य चाणक्य ने दुश्मन पर जीत हासिल करने के लिए अपने ग्रंथ में क्या बताया तो चलिए जानते हैं- ।।अनुलोमेन बलिनं प्रतिलोमेन दुर्जनम्।।आत्मतुल्यबलं शत्रु, विनयेन बलेन वा।।

इस श्लोक के जरिए आचार्य चाणक्य कहते है कि यदि कोई शत्रु आपसे अधिक शक्तिशाली है तो उसे उसके अनुकूल चल कर उसके बारे में पूरी जानकारी हासिल करनी चाहिए इससे ही आप अपने शत्रू का हरा सकते हैं और यदी शत्रु आपके समान बल वाला है तो उसे अपने विनय और बल से उस पर जीत हासिल की जा सकती है यदी आपका शत्रू आपसे कमजोर है तो उससे हमेशा सावधान रहें क्योंकी कमजोर व्यक्ती कभी भी छल कर सकता है इसलिए ऐसे व्यक्ति के साथ हमेशा विपरीत आचरण ही करें।


 
loading...



 
Latest News


Copyright @ 2017 Rajasthankhabre, Jaipur. All Right Reserved.