ये है भानगढ़ के किले की कहानी, एक तांत्रिक के श्राप से हुआ था वीरान

Rajasthan Khabre | Updated : Wednesday, 29 Jul 2020 03:58:18 PM
This is the story of the fort of Bhangarh

इंटरनेट डेस्क। राजस्थान के अलवर जिले में स्थित भानगढ़ का किला एक विशेष कारण से काफी प्रसिद्ध है। अलवर के इस किले को भूतों का किला कहा जाता है। 16वीं शताब्दी में बसा यह किला आज वीरान पड़ा हुआ है। आज हम बताने जा यह किला किस कारण से आज वीरान पड़ा हुआ है। बताया जाता है भानगढ़ की राजकुमारी रत्नावती बहुत ही खूबसूरत थी।

 

उसकी खूबसूरती का दीवाना सिंधु सेवड़ा नाम का एक तांत्रिक भी हो गया था। काला जादू जानने वाला ये तांत्रिक किसी भी प्रकार से इस राजकुमारी को पाना चाहता था। इसी कारण तो राजकुमारी रत्नावती एक दिन बाजार में इत्र की दुकान पर पहुंची तो वहां पर राजकुमारी को वशीकरण करने के लिए तांत्रिक ने उस इत्र की बोतल में काला जादू कर दिया जिसे उसने पसंद किया था। इस बात की जानकारी एक व्यक्ति ने राजकुमारी रत्नावती को दे दी थी।  

इसके बाद राजकुमारी ने उस इत्र की बोतल को पास के एक पत्थर पर तोड़ दिया। इससे पत्थर फिसलते हुए उस तांत्रिक पर आ गिरा। हालांकि मौत से पहले तांत्रिक ने शाप दिया कि इस किले में रहने वालें सभी लोगों की जल्द ही मौत हो जाएगी और ताउम्र उनकी आत्माएं इस किले में भटकती रहेंगी। इसके बाद जब भानगढ़ और अजबगढ़ के बीच युद्ध हुआ जिसमें भानगढ़ किले में राजकुमारी रत्नावती सहित सभी लोगों की मौत हो गई। 

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं। rajasthankhabre.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें। इस खबर से सबंधित सवालों के लिए कमेंट करके बताये और ऐसी खबरे पढ़ने के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें - धन्यवाद


 
loading...

 
Latest News


Copyright @ 2017 Rajasthankhabre, Jaipur. All Right Reserved.