Rajasthan सरकार ने राम मंदिर में इस्तेमाल होने वाले गुलाबी पत्थर के खनन पर लगाई रोक, जानिए क्यों

Rajasthan Khabre | Updated : Thursday, 17 Sep 2020 11:58:27 AM
Rajasthan government bans mining of pink stone used in Ram Temple construction

अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए उपयोग किए जाने वाले गुलाबी पत्थर के खनन पर राजस्थान सरकार द्वारा प्रतिबंध लगा दिया गया है। राजस्थान के खनन विभाग, भरतपुर जिला प्रशासन और पुलिस ने बंशी पहाड़पुर में खनन प्रतिबंध जारी किया।

 

जिला कलेक्टर नाथमल दीदेल ने कहा कि बंशी पहाड़पुर में हो रहे अवैध खनन की जानकारी मिलने के बाद कार्रवाई की गई। प्रशासन ने खनन को अवैध घोषित कर दिया है क्योंकि इस उद्देश्य के लिए कोई पट्टा आधिकारिक रूप से आवंटित नहीं किया गया था। अवैध खनन को रोकने के लिए संभागीय आयुक्त प्रेमचंद बेरवाल द्वारा जारी एक हालिया निर्देश के अनुसार कार्रवाई की गई है। 

प्रशासन ने इन गुलाबी पत्थरों से लदे लगभग ढाई दर्जन ट्रकों को जब्त कर लिया। हालांकि इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि ये ट्रक पत्थर कहां ले जा रहे थे। खनन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

राजस्थान के भरतपुर जिले में बंशी पहाड़पुर की खदानों से निकाले गए पत्थरों के खनन पर प्रतिबंध से अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण में कुछ अड़चनें आ सकती हैं।

बता दें कि अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए पांच अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंदिर का 'भूमि पूजन' किया गया था।

भूमि पूजन समारोह में श्री राम जन्मभूमि तीरथ ट्रस्ट के अध्यक्ष नृत्य गोपाल दास, आरएसएस प्रमुख भागवत, उत्तर प्रदेश के राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और उत्तर प्रदेश की सीएम योगी आदित्यनाथ ने भाग लिया।

फरवरी 2020 में, पीएम मोदी ने अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण की देखरेख के लिए श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र के गठन की घोषणा की थी।

श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ने 29 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर के लेआउट और उससे संबंधित अन्य दस्तावेजों को अनुमोदन के लिए एडीए को सौंप दिया था। ट्रस्ट ने 20 अगस्त को कहा था कि श्री राम जन्मभूमि मंदिर का निर्माण "शुरू हो गया है" और इंजीनियर अब साइट पर मिट्टी का परीक्षण कर रहे हैं।

सूत्रों के अनुसार जाली चेक का इस्तेमाल कर दो बैंकों से पैसे निकाले गए हैं। यह पता चला है कि जब जालसाज ने तीसरी बार पैसे निकालने की कोशिश की तो श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र के महासचिव चंपत राय को फोन द्वारा निकासी की सूचना दी गई।

इस मामले के संबंध में अज्ञात धोखेबाज के खिलाफ अयोध्या पुलिस स्टेशन में एक प्राथमिकी दर्ज की गई है।


 
loading...

 
Latest News


Copyright @ 2017 Rajasthankhabre, Jaipur. All Right Reserved.