Achievement: वर्ल्ड हेरिटेज में शामिल हुआ देश का 'सुकुवां-ढुकुवां बांध', पर्यटन बढ़ाने की कवायद शुरु

 | 
Sukuvan-Dhukuvan Dam

देश का 'सुकुवां-ढुकुवां बांध' वर्ल्ड हेरिटेज इरीगेशन श्रेणी में चयनित किया गया हैं। यह देशवासियों के लिए बड़ी उपलब्धि है। सुकुवां-ढुकुवां बांध का चयन देश की सबसे पुरानी एवं बेहतरीन इंजीनियरिंग वाली सिंचाई परियोजना के तौर पर किया गया है। विश्वस्तरीय संगठन इंटरनेशनल कमीशन ऑन इरीगेशन एंड ड्रेनेज (आईसीआईडी) ने यह चयन किया है। बीते साल इस संगठन ने (आईसीआईडी) 100 साल के बाद भी काम कर रहे जलाशयों को चिहिन्त किया था। 

केंद्रीय जल आयोग ने बीते साल अगस्त माह में सुकुवां-ढुकुवां बांध के संदर्भ में संगठन को सूचित किया था। जिसके बाद अब बुधवार को सिंचाई विभाग के विभागाध्यक्ष विनोद कुमार निरंजन ने इस ऐतिहासिक चयन की जानकारी सभी को दी हैं। ऐसा होने के बाद उम्मीद है झांसी में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। 

Sukuvan-Dhukuvan Dam

क्या हैं सुकुवां-ढुकुवां बांध

करीब 112 साल पुराना बांध हैं। जो अपनी खूबसूरती और बेहतरीन इंजीनियरिंग के चलते देश के चुनिंदा जलाशयों में शामिल है। बेतवा नदी पर स्थित यह बांध 1909 में निर्मित हुआ था। जिसकी सरंचना में आज तक कोई बदलाव नहीं हुआ है। इसी वजह से इसे सबसे बेहतरीन सरंचना माना गया है। यह बांध झांसी के बबीना ब्लॉक में है। अधिकारीयों का कहना है कि पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए अब यहां तक का मार्ग चौड़ा और कनेक्टिविटी बेहतर की जाएगी। 

Sukuvan-Dhukuvan Dam

अधिकारियों के मुताबिक इसकी सुरक्षा व्यवस्था के लिए अलग से गार्ड तैनात किये जाएंगे। बता दे देश की यह एकमात्र सिंचाई संरचना है जिसे वैश्विक स्तर पर अद्भुत इंजीनियरिंग के लिए चयनित किया गया है। कहा जाता है कि मानसून के समय में जब बांध से पानी छोड़ा जाता है तो नजारा बेहद दर्शनीय होता है।