Ajab-Gajab: दाह-संस्कार की राख का सूप बनाकर पी जाते हैं इस जनजाति के लोग, जानें

 | 

इंटरनेट डेस्क। दुनिया में लोगों द्वारा बहुत सी परंपराओं को निभाया जाता है। इनमें से कुछ परंपराएं ऐसी हैं जिनका आज के समय में कोई औचित्य नहीं है। आज हम आपको एक ऐसी परंपरा के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं जिसके बारे में जानने के बाद आप हैरान ही रह जाएंगे।

y

दक्षिण अमेरिका की एक जनजाति यानोमानी की ओर से अंतिम संस्कार की अनोखी परंपरा निभाई जाती है। इस परंपरा के तहत इस जनजाति के लोग किसी भी व्यक्ति के मौत हो जाने के बाद उसकी राख का सूप बनाकर पीते हैं। खबरों के अनुसार, इस अनोखी जनजाति के लोग वेनेजुएला और ब्राजील के कुछ हिस्सों में रहते हैं। अजीबोगरीब परंपरा के तहत यानोमानी जनजाति के लोग अपने ही परिवार के मृतक व्यक्ति का मांस तक खाते हैं। 

बताया जाता है कि जब समाज के किसी व्यक्ति की मौत हो जाती है तो पहले उसके मृत शरीर को कुछ दिनों के लिए पत्तों से ढक दिया जाता है। उसके बाद बचे हुए शरीर की हड्डियों को जला दिया जाता है और मांस को लोग खा जाते हैं। यहीं नहीं इसके बाद हड्डियों की राख को सूप बनाकर लोग पी जाते हैं। ऐसा करते समय लोगों द्वारा रोकर दुख भी प्रकट किया जाता है। इस जाति के लोगों का मानना है कि मृतक की आत्मा की शांति के लिए ऐसा किया जाता है।