शिक्षकों के रुपए देकर तबादलों के मामले में Satish Poonia ने की एसीबी से जांच और शिक्षा मंत्री से इस्तीफे की मांग

 | 
Satish Poonia ने राजस्थान की बिगड़ी हुई कानून व्यवस्था के लिए मुख्यमंत्री गहलोत को माना दोषी, मांगा इस्तीफा

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की मौजूदगी में शिक्षक सम्मान समारोह में शिक्षकों के रुपए देकर तबादलों की बात स्वीकारने के मामले में प्रदेश सरकार भारतीय जनता पार्टी के निशाने पर बनी हुई है।  इस मामले में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने एसीबी से जांच की मांग की मांग करते हुए शिक्षा मंत्री के इस्तीफे की भी मांग की है।

 भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने इस संबंध में ट्वीट किया कि मुख्यमंत्री जी के सामने शिक्षकों की पैसे से तबादले होने की हां के बाद एसीबी को को तुरंत एफआईआर दर्ज करनी चाहिए। जांच करनी चाहिए क्योंकि यह सब पब्लिक डोमेन में मुख्यमंत्री की मौजूदगी में हुआ है। मुख्यमंत्री जी को भी विभाग में भ्रष्टाचार के जवाबदेह शिक्षा मंत्री से तुरंत इस्तीफा लेना चाहिए। 

सतीश पूनिया ने प्रशासन गांवों के संग अभियान को लेकर भी गहलोत सरकार पर तंज कसा है। उन्होंने ट्वीट किया कि यह है कांग्रेस सरकार के प्रशासन गांवों के संग (जबकि कोई किसी के संग नहीं) की एक बानगी। जोरावरपुरा (कोटा) में मुख्यमंत्री जी की मौजूदगी के बावजूद पीडि़त निराश लौटे। कोई कुछ सुनने वाला नहीं। झूठी वाहवाही बटोरने के लिए बनाया गया यह अभियान बिना तैयारी के कारण महज एक सियासी ड्रामा बन गया।