HomeSearch Result for " vaccine "
शिलांग। मेघालय सरकार ने लगभग 25,००० स्वास्थ्य कर्मियों की पहचान की है जिन्हें प्राथमिकता के आधार पर कोविड-19 का टीका दिया जाएगा।
लंदन। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्बारा विकसित किये जा रहे कोविड-19 के टीके के तीसरे चरण के परीक्षण के अंतरिम परिणाम सोमवार को प्रस्तुत किये गए जिसमें यह संक्रमण की रोकथाम में 'प्रभावी' पाया गया है।
संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतेरस ने कोविड-19 के लिए टीका विकसित करने में अब तक मिली सफलता को 'उम्मीद की किरण’ करार दिया है। उन्होंने टीके को हर किसी तक पहुंचाने पर जोर दिया और समूह-2० देशों से कोरोना वायरस का इलाज और दवा विकसित करने में वैश्विक साझेदारी का आह्वान किया।
वाशिगटन। ट्रम्प प्रशासन पूरे देश में कोविड—19 का टीका वि​तरित करने की योजना के साथ तैयार है और उसे अमेरिका के खाद्य एवं औषधि प्रशासन से इसके आपतकालीन इस्तेमाल का अधिकार मिलने का इंतजार है ।
अंबाला। हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज को शुक्रवार को यहां कोरोना वायरस से बचाव के लिए स्वदेश विकसित संभावित टीके कोवैक्सिन की परीक्षण खुराक (ट्रायल डोज) दी गई। टीके के तीसरे चरण के परीक्षण के लिए स्वैच्छिक रूप से आगे आने वाले वह राज्य के पहले व्यक्ति हैं।
वाशिगटन। अमेरिका ने कहा है कि खाद्य और औषधि प्रशासन प्राधिकरण से अनुमति मिलने के बाद देश में अगले वर्ष जनवरी की शुरुआत तक बाजार में पहुंचने के लिए चार करोड़ से अधिक कोरोना वैक्सीन की खुराक तैयार होगी।
वाशिगटन। कोविड-19 महामारी के लिए जिम्मेदार कोरोना वायरस में होने वाली एक सामान्य उत्परिवर्तन प्रक्रिया के कारण इसका प्रसार तेजी से होता है और इस उत्परिवर्तन की वजह से ही कोविड-19 का संभावित टीका इस पर असर कर सकेगा। एक अध्ययन में यह निष्कर्ष सामने आया। कोविड-19 के विकास को समझने की दृष्टि से यह अध्ययन अत्यंत महत्वपूर्ण माना जा रहा है।
सिगापुर। कोविड-19 के टीके के सुरक्षित व प्रभावी होने के आकलन और टीके को लेकर रणनीति पर सरकार को परामर्श देने के लिये सिगापुर ने एक विशेषज्ञ समिति की नियुक्ति की है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।
मेलबर्न। ऑस्ट्रेलिया के स्वास्थ्य मंत्री ग्रेग हंट ने शुक्रवार को कहा कि क्वींसलैंड विश्वविद्यालय द्बारा विकसित किया जा रहा कोविड-19 का संभावित टीका 2०21 की तीसरी तिमाही तक ऑस्ट्रेलिया के लोगों के लिए उपलब्ध हो सकता है। उन्होंने कहा कि टीके के विकास की प्रक्रिया तय समय से पहले चल रही है और “वह कारगर है।”
नयी दिल्ली। पुणे स्थित सीरम इंस्टीट््यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) ने आज कहा कि उसे ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटीã और दवा कंपनी एस्ट्राजेनेका द्बारा विकसित की जा रही कोरोना वैक्सीन की चार करोड़ खुराक तैयार कर ली है।
loading...

Copyright @ 2017 Rajasthankhabre, Jaipur. All Right Reserved.