आलाकमान ने दी सचिन पायलट को विधायकों से मेल मिलाप बढ़ाने की सलाह

 | 
u

राहुल गांधी ने अपनी जिद पर अड़े रहते हुए कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष पद पर रहकर पार्टी की बागडोर संभालने से साफ़ साफ़ इंकार कर दिया है। इसके बाद ही अशोक गहलोत के पर्चा दाखिल करने की घोषणा के बाद अब कांग्रेस नेता सचिन पायलट एक्शन मोड में आ चुके हैं। आलाकमान ने पायलट को जयपुर पहुंचकर विधायकों से मेल मिलाप बढ़ाने की सलाह दी है। 

ऐसे में आलाकमान की सलाह के बाद पायलट जयपुर पहुंच गए हैं। क्योंकि राजनीतिक नजरिये से देखा जाए तो देखा अंततः विधायकों की राय ही महत्वपूर्ण होगी। वहीं दूसरी ओर राहुल गांधी और अशोक गहलोत के बीच आज सुबह करीब डेढ़ घंटे तक केरल में अहम मीटिंग हुई है। ख़बरों के अनुसार बातचीत के केंद्र में एक बात अहम रही। 

आलाकमान चाहता है राष्ट्रीय अध्यक्ष और राजस्थान का निर्णय साथ-साथ हो। अर्थ ये है कि राष्ट्रीय अध्यक्ष के निर्णय से पहले राजस्थान का निर्णय किया जाए। इस दौरान सीएम गहलोत ने राजस्थान की चुनावी राजनीति को लेकर मंतव्य बता दिया। हालांकि अभी तक इस संवेदनशील मुद्दे पर कोई अंतिम निर्णय नहीं हुआ है। आज सोनिया और गहलोत की मुलाकात के बाद ही इस बारे में अंतिम फैसला होगा।