बाघ टी-98 रणथंभौर से 150 किलोमीटर का सफर तय कर पहुंचा मुकुंदरा

Rajasthan Khabre | Updated : Monday, 11 Feb 2019 02:24:23 PM
Tiger T-98 reached from Ranthambore to Mukundra

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

जयपुर। रणथम्भौर का एक बाघ टी-98 कोटा के मुकुंदरा टाइगर हिल्स के दर्रा एरिया में पहुंच गया है। जानकारी के अनुसार कुछ दिन पहले टी-98 बाघ रणथम्भौर से निकलकर सुल्तानपुर (कोटा) के जंगलों में घूमता देखा गया था। इसके बाद यह बाघ कालीसिंध नदी होता हुआ मुकुंदरा टाइगर हिल्स के दर्रा क्षेत्र में पहुंच गया है। बताया जा रहा है कि बाघ करीब 150 किलोमीटर का सफर तय कर यहां पहुंचा है। जहां कैमरे में इसकी फोटो देखी गई है।


चौथा दिन: रेलवे ट्रैक से सडक़ों पर पहुंचा गुर्जर आरक्षण आंदोलन, जनजीवन बुरी तरह प्रभावित

बताया जा रहा है कि यहां पहले से रह रहे दो टाइगर के बाहर के एरिया में बाघ के पंजे के निशान मिले हैं। वहां वन विभाग ने ट्रैप कैमरे लगाए जिसमें बाघ की फोटो आई। फोटो में उस बाघ की पहचान रणथम्भौर के टी -98 के रूप में की गई। उल्लेखनीय है कि बाघ टी- 98 रणथम्भौर की बाघिन टी-60 का बच्चा है।

सेवानिवृत्त डीएफओ दौलत सिंह शक्तावत ने बताया कि इस बाघ को रेलवे ट्रेक और नेशनल हाइवे का खतरा है। इसकी सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए अभी इसे सेल्जर वन में बने छोटे बाड़े में रखा जा सकता है। यदि परिस्थितियां अनुकूल रहती हैं तो इसे उसी जंगल में छोड़ा जा सकता है। यहां प्रेबेस भी बहुत अच्छा है।

ज्ञात रहे कि इससे पहले 2003 में भी एक टाइगर ब्रोकन टेल रणथम्भौर से निकल कर इसी जंगल में आ गया था। जहां ट्रैन की चपेट में आने से उसकी मौत हो गई थी।

राहुल गांधी 14 फरवरी से राजस्थान में करने जा रहे इस काम की शुरूआत, लोकसभा चुनावों में पार्टी को मिलेगा फायदा...

मुकुंदरा टाइगर हिल्स, कोटा के सीसीएफ घनश्याम शर्मा का कहना है कि दर्रा वन क्षेत्र में लगाए गए कैमरों में दिखा बाघ टी-98 है। अब इस बाघ की सुरक्षा के लिए वन विभाग की टीम नजर बनाए हुए है। इसके लिए टीम जुटी हुई है।

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

 
 
Latest News

Copyright @ 2017 Rajasthankhabre, Jaipur. All Right Reserved.