मीडिया को केन्द्र सरकार के दबाव में ना आकर जनता का साथ देना चाहिए: Ashok Gehlot

 | 
Ashok Gehlot

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भारतीय मीडिया को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने आज इस संबंध में ट्वीट किया है। उन्होंने ट्वीट किया कि प्रेस फ्रीडम इंडेक्स 2022 में भारत की रैंकिंग 180 देशों में 150वें स्थान पर पहुंच गई है।

यह भारतीय मीडिया की दुर्दशा का प्रतीक है। 2014 में मोदी सरकार के आने के बाद से ही मीडिया के दमन का ऐसा कुचक्र चला है कि मीडिया पूरी तरह केन्द्र सरकार, भाजपा एवं आरएसएस के इशारे पर चल रही है।

मीडिया में इतना भय व्याप्त हो गया है कि निष्पक्षता एवं तर्क के साथ सच दिखाने की बजाय ऐसी कवरेज की जाती है जिससे इनकी नाराजगी ना मोल लेनी पड़ जाए। आज महंगाई एवं बेरोजगारी के कारण जनता में हाहाकार मचा हुआ है परन्तु इस पर मीडिया में कोई चर्चा नहीं हो रही है।

सिर्फ धर्म के नाम पर ध्रुवीकरण की ही बहस चलती रहती है। मीडिया को केन्द्र सरकार के दबाव में ना आकर जनता का साथ देना चाहिए। जब मीडिया आमजन के हित की बात करेगा तो जनता भी मीडिया का साथ देगी और केन्द्र सरकार की इतनी हिम्मत नहीं होगी कि वो मीडिया पर अंकुश लगा सके जैसा अभी लगाया हुआ है।