पुलिस तंत्र के कांग्रेसीकरण के कारण ही राजस्थान अपराधों का गढ़ बन चुका है: Rajendra Rathore

 | 
Rajendra Rathore

इंटरनेट डेस्क। उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने कोटा के नयापुरा थाने में युवक के आत्मदाह के प्रयास की घटना को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर निशाना साधा है।  इस संंबंध में भाजपा नेता ने ट्वीट किया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी जो राज्य के गृह विभाग के मुखिया भी है, वह पुलिस थानों में हर फरियादी की सुनवाई सुनिश्चित करने के लिए अनिवार्य एफआईआर पंजीकरण का ढोल पीटते रहते हैं ,लेकिन कोटा के नयापुरा थाने में युवक के आत्मदाह के प्रयास की घटना उनके तमाम दावों की पोल खोल रही है।

गहलोत के जंगलराज में कांग्रेस पार्षद के खिलाफ मुकदमा दर्ज नहीं करने से साफ प्रतीत हो रहा है कि किस कदर पुलिस तंत्र का कांग्रेसीकरण हो चुका है। पीडि़त राधेश्याम मीणा की रिपोर्ट दर्ज नहीं करके उसे आत्मदाह के लिए मजबूर करना गहलोत सरकार के माथे पर कलंक है।

 उन्होंने ट्वीट किया कि अशोक गहलोत जी इतिहास के सबसे विफल गृहमंत्री साबित हुए हैं जिनके सलाहकार महोदय भी जनता को ‘राजीव गांधी अमर रहे और अशोक गहलोत जिंदाबाद’ के अलावा कोई दूसरा नारा लगाने पर पुलिस का खौफ दिखा रहे हैं। पुलिस तंत्र के कांग्रेसीकरण के कारण ही राजस्थान अपराधों का गढ़ बन चुका है।