70 साल के बाद भी भारत में लोकतंत्र जिंदा रहा है: Ashok Gehlot

 | 
ak1

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजस्थान के बांसवाड़ा जिले में स्थित मानगढ़ में कहा कि जिस प्रकार महात्मा गांधी के सानिध्य में जंग लड़ी गई, आज भी इतिहास गवाह है कि किस प्रकार से त्याग, बलिदान, कुर्बानियां हुई थी, लोग जेलों में बंद रहे थे। पंडित जवाहर लाल नेहरू 10 साल तक जेलों में बंद रहे थे। सरदार पटेल जेलों में बंद रहे थे।

मौलाना आजाद थे, डॉ. अंबेडकर साहब ने संविधान बना दिया। आज देश उस पर खड़ा है, चल रहा है और जिस प्रकार से लगातार हम देख रहे हैं एक के बाद एक देश जो इतिहास बना रहा है। उन्होंने ट्वीट किया कि दुनिया के अंदर उसके बारे में मुझे कहना नहीं क्योंकि आज दुनिया की पहचान भी हमारे मुल्क का जो मान-सम्मान है वो कहां से कहां पहुंच गया। कहां तो हम गुलामी की जंजीरों में जकड़े हुए थे जिसकी कहानी हम यहां बैठ कर कर रहे हैं, और कहां पर आज देश कहां पहुंचा है।

प्रधानमंत्री मोदीजी जाते है दुनिया के मुल्कों में तो कितना सम्मान मिलता है इनको। क्यों मिलता है क्योंकि नरेंद्र मोदीजी उस देश के प्रधानमंत्री है जो हमारे मुल्क में आये हैं जो गांधी का देश है, जहां लोकतंत्र की जड़ें मजबूत हैं, गहरी हैं, 70 साल के बाद भी वहां लोकतंत्र जिंदा रहा है। ये दुनिया को अहसास होता है तो उन्हें गर्व होता है कि उस देश के प्रधानमंत्री मोदी जी हमारे मुल्क में आ रहे हैं तो आप सोच सकते हो कि किस प्रकार से ये देश आगे बढ़ा है।